समर्थक

गुरुवार, 18 दिसंबर 2014

wrong interpretations to ancient books

यह कविता निरामिष ब्लॉग की एक पोस्ट पर टिप्पणी में लिखी थी - सोचा यहाँ शेयर कर लूँ  :

शब्द आइना भर ही तो होते हैं
विचारों का जिनमे बिम्ब दीखता है |
जैसे शांत झील के ठहरे जल में
सूर्योदय का प्रतिबिम्ब दीखता है |

पानी झील का छेड़ दे कोई तो
सूरज खम्बा दिखने लगता है |
शब्दों की परिभाषाओं मोड़ वैसे ही
पाठक मूल विचार बदल देता है

आईने को तोड़ देने भर से
नायक बदल नहीं जाता है |
पत्र के शब्द मोड़ देने से लेकिन
मजमून बदल दिया जाता है |

शब्द को सौंप दिए ख्याल जो अपने,
शब्द अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं |
पढने सुनने वाले पर उन्हें मरोड़े तो
शब्द कुछ भी कर नहीं पाते हैं|

4 टिप्‍पणियां:

  1. अपने अपने आईने अपना अपना अक्स

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही बात है...शब्द को अर्थ तो पढने वाला ही देता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. शब्द को सौंप दिए ख्याल जो अपने,
    शब्द अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं |
    पढने सुनने वाले पर उन्हें मरोड़े तो
    शब्द कुछ भी कर नहीं पाते हैं|

    नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ, सादर।

    उत्तर देंहटाएं