समर्थक

शनिवार, 26 नवंबर 2011

ग्रास ऑन अदर साइड



प्रकाश : आज मूड बहुत ख़राब है मेरा | आज ऑफिस में स्पंदना यह कह कर गयी कि "Sir, i have finished the work for the day. I am proceeding for tour from tomorrow, will be outstation for about two weeks. in the meanwhile - anushka will look after whatever arises." " सर, मैंने आज का काम ख़त्म कर लिया है ... कल से मैं टूर पर जा रही हूँ - करीब दो हफ्ते बाहर रहूंगी | इस बीच अनुष्का यहाँ जो भी काम होंगे वह संभालती रहेगी " .......... 
अब उसे कैसे कहूं कि उसकी जगह कोई भी नहीं ले सकता? सोचेगी - बॉस लाइन मार रहे हैं - या कुछ और | पर सच में अब उसके बिना रहना बहुत मुश्किल लगता है मुझे | दो हफ्ते कैसे कटेंगे उसके बिना?

क्या मेंटेन करती है अपने आप को - अगर मैंने उसका बायोडाटा खुद स्क्रूटीनाय्ज़ न किया होता - तो कभी नहीं मानता कि वह ३० इयर ओल्ड है - २५ से ज्यादा की तो लगती ही नहीं | और एक मेरी सुषमा है - है तो ३१ की - पर लगती है ३६ की | और रोज़ शाम को वही "हेल्लो डार्लिंग - कैसा रहा आज ऑफिस में आपका दिन ?" और चाय के कप के साथ वही घिसा पिटा - "आय लव यू" ........ 
पहले उसका यही कहना कितना अच्छा लगता था - अब खीज आती है | पता नहीं क्या सोच कर उससे शादी कर ली मैंने मम्मी पापा से झगडा कर के !!! अच्छी भली पढ़ी लिखी है - कॉलेज के दिनों में सबसे स्मार्ट लगती थी - पर अंकिता के बाद जो जॉब छोड़ी - तो फिर अपने आप को मेंटेन करना छोड़ ही दिया ....!!                              
 ------------
स्पंदना : प्रकाश सर कितने स्मार्ट हैं | इतनी यंग एज में आलरेडी जनरल मैनेजर हैं | अच्छी खासी इनकम है - प्रेस्टीज है | सर की वायफ भी कितनी सुन्दर हैं - उस दिन पार्टी में मिली थीं - कैसे हंस हंस के सबसे बातें कर रही थीं | कौन कहेगा जी एम की वायफ हैं - कोई शो ऑफ़ नहीं |
------------
सुषमा : अरे , आज भी शाम के चार बज गए - आज भी अंकिता के स्कूल की फीस, और प्रोजेक्ट का सामान लेते लेते लेट होने से पार्लर जाना रह गया | रोज़ कुछ न कुछ हो ही जाता है | कल अंकुर का वैक्सीनेशन था | चलो - अब उसके सारे वैक्सीन्स हो गए - एक बार कन्फर्म करना होगा डोक्टर से - वैसे अंकिता को जो लगे थे वह तो सारे हो गए हैं -पर आजकल नए भी तो आ गए हैं कुछ वैक्सीन्स | कल ज़रूर पार्लर जाऊंगी - मालती बाई से कह दूँगी - सब घरों का काम निबटा कर ही यहाँ आये - बारह बजे तक अंकुर सो भी जाएगा - जब तक मालती अपना काम निब्टाएगी - मैं वापस आ जाऊँगी - अंकुर को तो पता भी नहीं चलेगा कि मैं बाहर गयी थी | वैसे मैं हूँ लकी - मालती बहुत ही अच्छी लड़की है - तो ऐसे में प्रॉब्लम नहीं होती | 
             वेट भी बढ़ रहा है - दो साल बाद अंकुर भी स्कूल जाने लगे - तो जिम ज्वाइन कर लूंगी | वैसे ये (प्रकाश) कितने प्यारे हैं - कभी नहीं कहते कि मैं अपने आप को ठीक से मेंटेन नहीं करती | पर मुझे करना तो चाहिए न.... अब इनका नाश्ता रेडी कर के तैयार हो जाऊं - ये आते ही होंगे ऑफिस से | 
------------
(शाम का नाश्ता रेडी होने तक अंकुर रोने लगता है - तो रेडी होने के नाम पर सुषमा सिर्फ मुह धो कर कंघी कर पाती है , उसे कपडे बदलने को भी समय नहीं मिल पाटा - जो कपडे पहन कर बहार गयी थी - वो पूरी तरह मुरझा गए हैं - वह खुद भी कम्फर्टेबल नहीं है - लेकिन वक्त नहीं है की शावर कर के कपडे बदल पाए ... पति के लौटने का वक्त है )
------------
प्रकाश : अरे सुषमा - अंकिता कहाँ है - खेलने चली गयी इतनी धूप में? तुमसे कितनी बार कहा है - उसे ६ से पहले बाहर मत भेजा करो - ?
सुषमा : नहीं - वह कुछ स्कूल का प्रोजेक्ट था - तो यह चार जनों के ग्रुप में शालिनी के घर पर ही बना रहे हैं -आपका दिन कैसा रहा आज ऑफिस में ? आप कितने थके और स्ट्रेंड लग रहे हैं - टेंशन मत लिया कीजिये इतना - आय लव यु .... |
प्रकाश : हम्म्म्म  .... ठीक ही रहा दिन - | ....(( ... अब इसे क्या कहूं कि इसी के कारण दिन ख़राब होता है मेरा - देखो कैसे भूतनी बनी बैठी है - और स्पंदना के बाल कैसे सेट रहते हैं हमेशा - मजाल है कि एक बाल भी यहाँ का वहां हो जाए ..... ड्रेस प्रेस तक नहीं करी है - ऐसे ही पहन ली - और स्पंदना ...))
सुषमा : आप आराम कर लीजिये - मैं चाय लाती हूँ | 
-------------
एक महीने बाद - ऑफिस में टार्गेट से ज्यादा टर्नओवर होने की पार्टी है - सैटर्डे रखी है जिससे सब लोग आराम से एन्जॉय कर सकें |
सुषमा और स्पंदना साथ हैं ....
स्पंदना :आप इतने अच्छे से कैसे मेंटेन करती हैं खुद को? और कितने लम्बे और घने बाल हैं आपके - ऐसा हेयर स्टायल तो मैं सोच भी नहीं सकती - मैं तो हर १५ डेज़ में पार्लर जाती हूँ और बाल कट करा कर सेट करा कर आती हूँ | अभी तो सब ठीक है - शादी और बच्चों के बाद क्या होगा पता नहीं ? टाइम कैसे मिलता है आपको दो छोटे बच्चों के साथ अपने आप को ऐसे मेंटेन करने के लिए ? ............... अगले महीने मेरी और रोहित की एंगेजमेंट है - तीन महीने बाद शादी | फिर मैं यहाँ से शिफ्ट हो जाऊंगी | रोहित मेरे कॉलेज में ही था - पर कभी ऐसा लगा नहीं कि वी आर फॉर ईच अदर - वह तो यहाँ पिछले एक साल से काम करते हुए लगा कि उसे मिस कर रही हूँ - और जब टूर्स और कांफेरेंसेस में मुलाकात होती - तब पुरानी बातें याद करते | वैसे उसकी मम हमारे साथ रहेंगी - क्योंकि हम दोनों ही जॉब में रहेंगे तो घर देखने के लिए | आंटी बहुत ही अंडर्स्टेडिंग टायप की हैं - खुद ही कहा कि मैं घर संभाल लूंगी - तुम अभी करियर पर कांसेंट्रेट करो |..............बोम्बे में अच्छी जॉब ओपनिंग भी मिल रही है ... नेक्स्ट 21st को रेज़िगनेशन  नोटिस दे रही हूँ - वैसे अनुष्का को सब काम ठीक से सिखा दिया है - होप सर को ज्यादा प्रॉब्लम नहीं होगी | शी इज आल्सो वेरी कॉम्पीटेंट | ........... सुषमा मैम - आय विल बी इन टच विद यु ओन ई मेल | सर को अभी मत बताइयेगा मेरे रेजिग्नेशन के बारे में - मैं कल ऑफिस में बता दूँगी |
------------
अंकुर : मामी - स्पंदना आंती कैछी पली जैसी छुन्दल हैं न? कल उन्होंने मुझे डेली मिल्क दी पालटी में - और अंकिता दीदी को बी - औल उन्होंने कहा कि चोकलेट के हात छे छेक हैंड नइ कलते हैं  - टिशु पेपल से हात  पोछ्ते हैं - आप तो गोदी में ले कर पानी से हाथ धुलाती हो ...
------------

प्रकाश : "i am sure spandana is also as attracted to me as i am to her (मुझे पक्का पता है की जितना मैं स्पंदना की और आकृष्ट हों, वह भी मेरी तरफ है ) - पर यह मुसीबत जो गले पड़ी हुई है - सुषमा - तो कैसे प्रोपोज करूँ स्पंदना को? इसीलिये बेचारी रेज़ाय्न कर के बोम्बे जा रही है - आय विश आय कुड चेंज थिंग्स - पर बच्चे भी तो हैं - उनकी लाय्फ़ ख़राब हो जायेगी | यह पत्नी कैसी भी हो - माँ तो अच्छी है - मुझे बच्चों का कुछ देखना ही नहीं पड़ता कभी ......

..................... --------- ..................... ---------- .............. ---------................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें