समर्थक

शनिवार, 26 नवंबर 2011

डॉक्टर बेहतर जानते हैं या तू ?


एक बार मुल्ला नसीरुद्दीन की बीवी बहुत बीमार हो गयी | डॉक्टर की दवाइयां भी कुछ ख़ास असर न कर रही थीं | एक दिन तबियत ज्यादा बिगड़ने पर मुल्ला ने डॉक्टर को बुलाया | पत्नी बेहोश हो गयी थी | डॉक्टर ने आ कर सब चेक किया और नसीरुद्दीन से कहा "मुझे बहुत खेद है, किन्तु मैं आपकी पत्नी को बचा नहीं सका | ये चल बसी हैं | " मुल्ला बड़ा दुखी हुआ | डॉक्टर उसे सांत्वना दे रहे थे, की तब तक...
                     .....
 पत्नी होश में आ गयी और उनकी बातें सुन कर बोली "नहीं जी, मैं तो जिंदा हूँ|"

मुल्ला ने उसे डांटते हुए कहा - "चुप कर ! तू ज्यादा जानती है , या डॉक्टर ? "........
------------------------

बीमारी में वह बार बार पूछती - तुम मेरे बाद दूसरी शादी तो नहीं करोगे? तो मुल्ला अपने प्यार की दुहाई देता ....
"शादी तो नहीं करोगे .... "
:शादी नहीं करूंगा ...."
"उसे इस घर में तो नहीं लाओगे "
:शादी नहीं करूंगा ...."
"इस कमरे में तो न लाओगे?"
:शादी नहीं करूंगा ...."
मेरे गहने तो न दोगे?"
:शादी नहीं करूंगा ...."
मेरे कपडे तो न दोगे?"
".......  उसे फिट नहीं होंगे....." 
:)

1 टिप्पणी:

  1. प्रिय पाठकों, कृपया तेजी से विकसित होते हुए शब्दकोश इंगहिन्दी पर अवश्य पधारें। इस के लिए गूगल में, इंगहिन्दी लिखने मात्र से आपको पहले पेज पर वेबसाइट के नाम के दर्शन होंगे, धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं